Dant Dard Ki Tablet Name List: पाएं दांत दर्द से राहत

Komal Content Writer

क्या आपके टूथपेस्ट में नमक है? अगर है और तब भी आपके दांत में दर्द है तो शायद टूथपेस्ट में नमक और दांत की परेशानियों का कोई सम्बन्ध नहीं है।

अगर आप अपने अच्छे टूथपेस्ट के बाद भी दांत के दर्द के लिए dant dard ki tablet ढूंढ रहे हैं तो आप बिलकुल सही आर्टिकल पर आए हैं। इस आर्टिकल में मैंने बहुत रिसर्च और मेहनत के बाद Dant Dard Ki Tablet Name List तैयार की है। इस लिस्ट की मदद से आप अपने दांत के दर्द का इलाज बेहद आसानी से कर सकते हैं।

इस लिस्ट को तैयार करने के लिए मैंने बहुत सारे अच्छे-अच्छे आर्टिकल्स पढ़े हैं और उन में से सबसे सही इनफार्मेशन को चेक करके अपने इस आर्टिकल में डाला है। अपने 5 मिनट मेरे इस आर्टिकल को दें और अपने दांत के दर्द को गुडबाय कह दें।

Also read:  Best Online Instant Medicine Delivery Apps In India

 

दांत दर्द की टेबलेट नाम लिस्ट

सबसे पहले मैं आपको बेस्ट दवाइयों और कुछ घरेलु नुस्खों के बारे में बताउंगी जो दांत के दर्द से राहत पाने में आपकी मदद करेंगे। आइए एक-एक करके हर एक दवाई के बारे में पढ़ते हैं और देखते हैं कि उन्हें आपको कैसे लेना चाहिए।

नोट: अगर आपको किसी भी दवाई से एलर्जी होती है तो आपको डॉक्टर की सलाह से ही दवाई लेनी चाहिए।

1. एकुविन [Acuvin]

एक्यूविन [Acuvin] को आप मुँह के ज़रिए लेते हैं और इसका असर आपको आधे घंटे तक अच्छे से नज़र आने लग जाता है। अगर कुछ देर बाद आपका दर्द वापस आ जाता है तो आप 4 से 6 घंटे बाद इसे दोबारा ले सकते हैं। इस दवाई का उपयोग करते समय ध्यान दें कि लम्बे समय तक इसका इस्तेमाल करने से आपको इसके सेवन की आदत हो सकती है।

नोट: अगर आपकी समस्या दवाई का असर ख़त्म होने के बाद वापस आ जाती है तो बेहतर होगा कि आप डेंटिस्ट के पास जाकर अपने दांतों का चेक अप करवा लें।

2. एलफाम [Allflam]

एल्फाम [Allflam] को आप खाने के बाद लेते हैं और इसका असर भी घंटों के लिए रहता है। अगर आप इस दवाई को रिपीट करना चाहते हैं तो आपको 4 से 6 घंटे बाद लेनी चाहिए। अगर आपको किडनी या फिर लिवर की तकलीफ है तो आपको इस दवाई से परहेज़ करना चाहिए और अपने डॉक्टर की सलाह से ही दवाई लेनी चाहिए।

3. एलरोफ [Alrof]

एल्रोफ़ [Alrof] आपको दर्द से तो राहत देती ही है, साथ ही यह दवाई आपको सूजन से भी राहत देने में सहायक होती है। यह दवाई आपके शरीर में जाकर सूजन के कारण को कम करती है जिससे आपको सूजन से राहत मिलती है। इस दवाई का इस्तेमाल ज़्यादा नहीं करना चाहिए क्योंकि यह आपके दिल पर प्रतिकूल प्रभाव डालती है। इसी के साथ अगर आप गर्भवती हैं या अपने नवजात को स्तनपान करवा रही हैं तब भी आपको इसका इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

4. सेडो प्लस [Cedo Plus]

सेडो प्लस [Cedo Plus] पेरासिटामोल, सिटिरिज़िन और स्यूडोएफ़ेड्रिन से बनी यह दवाई आपको आपके दांत के दर्द से राहत देती है। यह दवाई आपके शरीर में रक्त का प्रवाह बढ़ाती है जो दर्द के लिए बेहद असर्कार रहता है। अगर आप इस दवाई को लम्बे समय तक लेना चाहते हैं तो डॉक्टर की सलाह ज़रूर ले लें क्योंकि इसके इस्तेमाल से रक्त वाहिकाएं सिकुड़ने लगती हैं।

5. क्लिंडामायसिन [Clindamycin]

क्लिंडामाइसिन [Clindamycin] एक एंटीबायोटिक है जिसके सेवन से आप अपने शरीर में जीवाणु संक्रमण का इलाज कर सकते हैं। यह दवाई सीधा इन्फेक्शन के कारण से लड़ती है और आपके शरीर में इन्फेक्शन को बढ़ने से रोकती है। इस दवाई को आप एक दिन में 4 बार भी ले सकते हैं पर अगर आपके दांत में इन्फेक्शन ज़्यादा है तो आपको दवाई को फर्स्ट एड की तरह लेने के बाद सबसे पहले डेंटिस्ट के पास जाना चाहिए।

6. क्लेनोरा-ऍमपी [Clenora MP]

क्लेनोरा-एमपी [Clenora MP] जैल या फिर सलूशन के फॉर्म में मिलता है जिसे मसूड़ों में परेशानी की जगह पर लगाया जाता है। यह जैल को मसूड़ों से खून बहने का उपचार करने के लिए डेंटिस्ट द्वारा इस्तेमाल किया जाता है जो कि खून रोकने के साथ-साथ दर्द से राहत देने के काम भी आता है। इस दवाई को बनाने में कोलीन सैलिसिलेट, सेट्रिमाइड, टैनिक एसिड, और लिग्नोकेन का इस्तेमाल किया जाता है।

7. टाइलेनॉल [Tylenol]

टाएलेनॉल [Tylenol] को बनाने के लिए एसिटामिनोफेन और कोडीन का इस्तेमाल होता है। एसिटामिनोफेन आपके शरीर के दर्द को महसूस करने के तरीके को बदलती है। कोडीन आपके शरीर के दर्द का जवाब देने के तरीके को बदलती है। इन दोनों चीज़ों की मदद से आपको आपके दांत के दर्द से राहत मिल जाएगी। इसे लेने से आपको नींद जैसा महसूस हो सकता है और इसको लम्बे समय तक इस्तेमाल करने से आपको इसकी आदत लग सकती है। इस दवाई को 18 साल से कम आयु वाले लोगों को इस्तेमाल नहीं करना चाहिए।

8. डार्ट [Dart]

डार्ट [Dart] को बनाने में प्रोपीफेनज़ोन का इस्तेमाल होता है जो कि एंटी-इंफ्लेमेटरी होता है। इसके सेवन से आप दर्द के साथ-साथ दर्द के कारण होने वाले बुखार को भी कम कर सकते हैं। हालाँकि अगर आप पोरफाइरिया के रोगी हैं तो आपको इस दवाई का सेवन नहीं करना चाहिए।

9. नुप्रिन [Nuprin]

नुप्रिन [Nuprin] में डेसिबुप्रोफेन का इस्तेमाल होता है जो आपके शरीर के उन रासायनिक पदार्थों को रोकने का काम करता है जो कि दर्द और सूजन का कारण होते हैं। अगर आपके मसूड़ों और दांतों से दर्द और सूजन चली जाएगी तो आपको बहुत राहत मिलेगी। इस दवाई को ब्लीडिंग डिसऑर्डर और अस्थमा के रोगियों के साथ-साथ गर्भवती महिलाओं को नहीं लेना चाहिए।

दांत दर्द के घरेलू नुस्खे

यह तो हुई दवाइयों की बात, अब हम देखेंगे कि अगर आप दवाई नहीं लेना चाहते तो ऐसे कौन-कौन से घरेलू नुस्खे हैं जिनकी मदद से आप अपने दांत के दर्द को शांत या फिर ठीक कर सकते हैं:

1. नमक के पानी का कुर्ला

नमक का पानी एक बेहद अच्छा डिसइंफेक्टेंट होता है जिससे कुर्ला करने पर आप दाँतों के बीच फंसे खाने को भी निकालने में समर्थ रहेंगे। इसी के साथ-साथ आपके दांत का दर्द, मसूड़ों में हो रही सूजन और मुँह में हो रहे अन्य  जख्म भी ठीक हो जाते हैं।

इसके लिए आपको आधा चमक नमक को गुनगुने पानी में मिलाकर कुर्ला करना चाहिए।

2. हाइड्रोजन पेरोक्साइड से कुर्ला

हाइड्रोजन पेरोक्साइड से कुर्ला करने पर आपको दर्द, सूजन और मुँह में पनप रहे बैक्टीरिया से छुटकारा मिलेगा। इसी के साथ ऐसा करने पर आपके मुँह में पैदा हो रही प्लाक और मसूड़ों से बहते हुए खून का भी सफाया हो जाएगा।

इसका इस्तेमाल करने के लिए आपको 3% हाइड्रोजन पेरोक्साइड को बराबर मात्रा में पानी में मिलाना चाहिए।

3. आइस पैक

अगर आपके दांत का दर्द झटके के कारण आया है तो आपको आइस पैक आज़माना चाहिए। इसकी मदद से आप अपनी नसों से दर्द को कम कर पाएंगे और साथ ही सूजन से छुटकारा ले पाएंगे।

इस नुस्खे का इस्तेमाल करने के लिए आप बाज़ार में मिलने वाला आइस पैक या फिर बर्फ को टॉवल में लपेट कर इस्तेमाल कर सकते हैं। इसे दर्द वाली जगह पर 20 मिनट तक लगाए रखें और अगर ज़रुरत पड़े तो कुछ घंटों में रिपीट करें।

4. लौंग का तेल

लौंग के तेल में यूजीनल नामक एक्टिव इंग्रेडिएंट होता है जो नेचुरल अनेस्थिसिआ की तरह काम करता है और आपके दर्द को नम्ब करने में आपकी मदद करता है। साथ ही इसमें एंटी इंफ्लेमेटरी प्रॉपर्टीज भी होती हैं जो आपके मसूड़ों की सूजन को कम करने में आपकी मदद करती है।

रुई में लौंग का तेल लगाकर आप दर्द वाली जगह पर तब तक रखें जब तक आपका दर्द कम ना हो जाए।

5. सरसों का तेल, नमक और हल्दी

नमक के गुणों की बात तो हम कर ही चुके हैं और हल्दी के गुणों के बारे में कोई जानता ना हो ऐसा हो ही नहीं सकता। इन दोनों बेहतरीन इंग्रेडिएंट्स को सरसों के तेल की मदद से दांतों में लगाने से कीड़े और उस से होने वाली दर्द की समस्या से राहत पा सकते हैं।

सरसों का तेल, नमक और हल्दी को मिलाकर पेस्ट तैयार कर लें और उसे ब्रश पर लगाकर अपने दाँतों पर घसें।

6. लहसुन

लहसुन में एंटी बैक्टीरियल प्रॉपर्टीज होती हैं जो कि आपके मुँह से हानिकारक बैक्टीरिया जो कि प्लाक पैदा करता है उसको ख़त्म कर देता है। बैक्टीरिया के मरने से आपके दाँतों का दर्द भी चला जाता है।

आप लहसुन को पीस कर उसमें थोड़ा सा नमक मिलाकर दर्द वाली जगह पर लगा सकते हैं। अगर आप इतनी मेहनत नहीं करना चाहते तो आप लहसुन को ऐसे भी धीरे-धीरे चबाकर खा सकते हैं।

निष्कर्ष [Conclusion]

इस आर्टिकल में आपने जाना कि ऐसी कौन-कौन सी दवाइयां हैं जिनके इस्तेमाल से आप अपने दांत के दर्द को दूर कर सकते हैं। इसी के साथ हर दवाई को लेने के नुकसान भी बताए हैं और साथ ही कौन-सी मेडिकल कंडीशन में दवाई का सेवन नहीं करना चाहिए, वह भी बताया गया है।

इन में से कोई दवाई लेकर जब आप अपने दांत का दर्द बंद कर लें उसके बाद आपको एक बार डेंटिस्ट के पास ज़रूर जाना चाहिए। ऐसा हो सकता है कि आपके दांत का मामूली सा दर्द किसी बड़ी परेशानी के कारण हो जिसे अनदेखा करने पर वो बढ़ सकता है।

परेशानी चाहे कितनी भी छोटी क्यों ना हो, हमें कभी भी उसे अनदेखा नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने पर वह बढ़ सकती है।

उम्मीद है यह आर्टिकल आपके काम आया होगा। अगर ऐसा है तो आपको इस आर्टिकल को अपने दोस्तों और परिवारजनों के साथ शेयर ज़रूर करना चाहिए। अगर आपका कोई सवाल या सुझाव है तो आप नीचे दिए गए कमेंट सेक्शन की मदद से उसे मेरे और बाकियों के साथ शेयर कर सकते हैं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल [Frequently Asked Questions]

Q1. दांत दर्द के लिए सबसे अच्छी टेबलेट कौन सी है?

A1. दांत दर्द के लिए आपको ऐसी टेबलेट लेनी चाहिए जिसे बनाने में असिटामिनोफेन या फिर इबप्रोफेन का इस्तेमाल होता है। असिटामिनोफेन आपके शरीर के दर्द को महसूस करने के तरीके को बदलता है और वहीँ इबप्रोफेन दर्द, उस से होने वाला बुखार और इन्फ्लेमेशन को कम करने का काम करता है।

Q2. दांत का दर्द और कीड़ा कैसे निकाले?

A2. आप लॉन्ग के तेल को रुई पर लगाकर अपने दांत पर लगा लें जिससे आपके दांत का दर्द ठीक हो जाएगा। इसके बाद आप सरसों के तेल में हल्दी और नमक मिलाकर पेस्ट बनाए और उससे दिन में दो बार ब्रश करें। ऐसा करने से आपके दांत से कीड़ा निकल जाएगा। अगर आप दांत दर्द की दवाई के बारे में पढ़ना चाहते हैं तो आपको मेरा यह आर्टिकल पढ़ना चाहिए।

Q3. दांत में बहुत ज्यादा दर्द हो तो क्या करना चाहिए?

A3. अगर आपके दांत में बहुत ज़्यादा दर्द हो रहा है तो आपको इबप्रोफेन लेनी चाहिए और उसके बाद आइस पैक लगाकर सीधा डेंटिस्ट के पास जाना चाहिए।

Q4. दांत दर्द के लिए कौन सा टूथपेस्ट इस्तेमाल करें?

A4. अगर आपके दांत में हर समय झनझनाहट वाला दर्द रहता है तो आपको Sensodyne टूथपेस्ट का इस्तेमाल करना चाहिए। अगर आपका दर्द टेम्पररी है तो आपको मेरे इस आर्टिकल को पढ़कर एक अच्छी दवाई जिसमें इबप्रोफेन हो, उसे लेना चाहिए।

About Author

Komal

Content Writer

Words help me express the unsaid and we have come a long way like that so now I write about anything and everything.

Related Articles

Top 20 New Year Gift Ideas for Special One

222 days ago read more

15 Best New Year Resolutions 2022 You can Easily Stick to!!

237 days ago read more

Room Heater Buying Guide: Types, Features, and Review

246 days ago read more